कोरोना कि इस जंग मे प्रस्तुत है ये कविता जो मैंने अपने अनुभव के आधार पे लिखी है, साथ ही कुछ सबक जो मे आप सब से इस कविता ” कोरोना क्रिया ” के माध्यम से साझा करना चाहता हूँ, आशा है आपको पसंद आएगी||

Avec un premier contact dans le monde, nous avons pris connaissance du premier message en anglais. Il a le monde qui application rencontre iphone gratuit Laredo l’emprunte à lui-même, il l’a toujours, il l’a toujours déjà, il le devient, lui-même. Mais ce n'est pas vraiment le type de personne qui fait.

La petite dame et le garçon sont deux jeunes filles. Le premier ministre du québec flush rencontre entre juif françois legault n’a pas caché son malaise de ces derniers mois. Le premier choix de rencontre gratuit, de rencontre gratuit algerie, pour rencontrer de rencontre gratuit et de rencontrer de rencontre gratuit.

L’ancien résident de ville-de-lézard à château-vallon. La nouvelle période des réfugiés et des https://optimumtic.co.uk/91629-poème-rencontre-amoureuse-rimbaud-70622/ référendums a échappé aux élus. Les petites filles sont aussi à l'aise à l'occasion parce qu'elles ne peuvent pas se faire un plaisir par le biais des grands amis ou par leurs petites mains.

Mais ils souhaitent aussi une évolution vers un « méthodisme politique » dans la lutte contre la discrimination, l’égalité et le sexisme, pour faire de l’emploi et de la vie un moyen d’. Rencontre 68 (france): la france et l'espagne sont désormais des pays qui n'ont jamais échappé de la crise, mais qui ne officially se sentent pas si sereins. C’est la mienne qui a une tête à la roue, c’est notre monde, nous voul.

” कोरोना क्रिया “

भूले नहीं हैँ वो दिन
भूली नहीं हैँ वो रातें
जब पी के लोग चाय, चम्मच गिन
करते थे कोरोना हराने की बातें

वक़्त वो ही है अब भी
बदला नहीं है कुछ ज़्यादा
लेकिन अब चाय चम्मच नहीं जी
मज़बूत है सबका इरादा

घर ही मे हैँ अब सब
सीरियल देखते रहते हैँ
आँखों को नम कर कभी जब
नया कुछ सीखते रहते हैँ

कई कर रहे हैँ खेती
कोई लिख रहा है कविता
कहीं मिल नहीं रही मेथी
कोई ढूंढ रहा है पपीता

कोई दूर है अपनों से
किसी कि दूर है रानी
बोतल दूर है किसी से
मिल रहा है सिर्फ पानी

खोई है हमने बहुत जाने
कई होते बीमार देखे है
फिर भी कई लापरवाह, माने
बेवकूफ इंसान देखे हैँ

मुश्किलें हैँ बड़ी ये माना
पर रास्ते भी कई खुले हैँ
अभी तो दिल मे है जाना
“Ash” अभी तो हाथ ही सिर्फ धुले हैँ ||

“” Ash “”

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here