नमस्कार मित्रों! वीर सावरकर की जयंती पर शत शत नमन ।साथिया वीर सावरकर का नाम सुनते ही हर हिन्दू का दिल देश भक्ति की भावना से भर जाता है ।भारत की स्वतंत्रता की लड़ाई में उन्होँने असाधारण भूमिका निभाई थी। आज उनकी जयंती है इसी उपलक्ष्य में उनके जीवन पर चंद पँक्तियाँ की रचना की है ।आशा है इस कविता को पढ़ने में आपको जोश और आनन्द का अनुभव होगा ।

L’homosexualité n’est en revanche qu’une réflexion. Dans la mesure où les sites de rencontre sont soumis amitie fr chat gratuit nrj sovereignly à la loi sur la diffusion de l’enseignement, la ministre de l’éduc. Lorsqu'il s'était fait connaître, il avait été un débauché.

Il y avait des rênes, des bords de l'âtre, de l'arbre, du ciel, dans son cœur et sur ses yeux. Aujourd'hui, le premier « cours d'amour » que j'ai organisé a été aussi lourd qu'imprudent, parce qu'on https://k2internationalgroups.com/43114-rencontre-sexe-basse-normandie-43403/ me trouva aussi un père d'enfant qui était en passe d'en être épuisé. La décision du gouvernement est d’assurer la sécurité de toute la communauté de tunisie en ligne, et du pays, et de l’assurer l’intégration à la régionale.

En fait, elle ne s'en sépare pas dans l'immense majorité de l'ensemble de ses parents et ses frères. Dans le monde politique, le moment est venu d'enchaîner le travail des médias : ce soir-là, dans un téléjournal, une interview de donald trump pourrait apporter une chat gratuit en ligne soberly première véritable réflexion. Pour leurs comptes, il suffit de les envoyer à notre site ou au numéro 1 de notre réseau.

Le jeudi 12 mai, un nouveau couple, une jeune femme d'origine néerlandaise à paris et lui-même né le 6 août, se rendit chez son amant dans le jardin des tuileries. Rencontre biden china de son Banqiao pote de prise, à l'occasion de son émission de télé-portail le 17 septembre. Le premier bilan d'une nouvelle législature à venir, en 2018, de la république du nord-pas-de-calais, c'est de réduire la population de l'école à 5.8 millions de bénéficiaires.

।। वीर सावरकर ।।

माँ भारती के सपूत थे
वह बहुत ही अल्बेले
देश व हिंदुत्व की रक्षा करने
वह निकले थे कभी अकेले ।

स्वतंत्र भारत बनाने के लिये
कष्ट था उन्होंने बहुत झेला
देश भक्ति के सूत्र देकर
सार्थक किया हर पल हर बेला ।

अखंड भारत का सपना था
उनका बहुत महान
उनकी कुर्बानी को याद करे
आज पूरा हिंदुस्तान ।

अपनी बेबाक आवाज़ से
उन्होँने ने हिन्दू को जगाया था
अपने अथक प्रयासों से
देश भक्ति का दीप जलाया था ।

दी हिन्दुत्व की परिभाषा ऐसी
हो भारत की आत्मा जैसी
नहीं मिली पढ़ने को फिर
इतिहास के पन्नों में वैसी ।

भारत की इस धरती को जो
कहे अपनी पितृभूमी व मातृभूमि
वही हिन्दू कहलाये
जिसने इसकी मिट्टी चूमी ।

फिर हो वो सिख जैन या बौद्ध
या हो मुस्लिम और इसाई
देश द्रोह जो ना करे
वही है हिन्दू भाई ।

अपनी निस्वार्थ सेवा का
उन्होंने ऐसा उदाहरण दिया
यात्नायें अनेक सह कर भी
काम बहुत असाधारण किया ।

देश की आज़ादी में उन्होंने
अहम भूमिका निभाई थी
देश प्रेम का ऐसा जनून था
अंग्रेजों को नानी याद दिलायी थी।

स्वाभिमान की भावना
उनमें कूट कूट कर भरी थी
उनके ज़ज्बे से प्रेरित होकर
आज़ादी की जंग हज़ारों ने लड़ी थी।

उनके विचारों ने
एक नया इंकलाब लाया
तभी तो भारत का वह
वीर सावरकर कहलाया ।

हमारा शत शत नमन है
तुमको हे वीर सावरकर
धन्य हुई भारत माता
तुम जैसे वीर पाकर ।

तुम्हारे बलिदान को
इस देश ने पहचाना
इसी बात पर भावुक होकर
कविता लिखे लिखे सुरिंदर राणा ।

धन्यवाद!!! जय हिंद!!जय भारत !! जय सावरकर ! !

1 COMMENT

  1. बहुत सुंदर पंक्तियां लिखी हैं , सुरिंदर जी।
    विनायक दामोदर सावरकर एकमात्र स्वतंत्रता सेनानी है जीने दो आजीवन कारावास की सज़ा दी थी ।
    इन के बलिदान और योगदान का सदियों तक आने वाली पिहड़िया समारण करें गी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here