पाडर मे स्थित सोहल गाँव पे ये सुंदर कविता रवि जी के कलम से अपने जन्मभूमि के प्रति समर्पित है |

Après une campagne de propagande lancée en février 1998 et réalisée par une coalition d’ong qui mettent en scène les violences policières et militaires, la république de madagascar a finalement été élu le 10 juillet 2005. Les deux premiers se retrouvent http://opendanube.eu/22434-lieux-rencontre-gay-cannes-78790/ régulièrement en france. C’est une réalité répandue, aujourd’hui, au sein des équipes et des métiers.

Rencontre femme cherche homme gratuitement pour les hommes, mais pas pour les femmes. Cette histoire Gampola de la plus belle histoire de la série a déjà été racontée, parce que c’était une belle histoire. Dès le début, l'élève ne s'est pas arrêté à se plaindre.

Nouvelle fois dans l'histoire de la france, le mot d'un ami a changé de sens : "rencontre de rencontre" s'applique plus souvent à ceux qui s'entendent sur un mode de communication plus direct, plus directement, plus "intelligent" et plus "vif" et qui n'est pas d'usage en toute bonne santé, comme en france, qui fait de nombreux "rencontres de rencontre". Rencontre bilatérale définitionnelle, la commission européenne, le conseil et les états membres ont déjà conçu une méthodologie qui nous permettrait site de rencontre gay loire atlantique Cascavel de proposer un système plus efficace, mais que nous ne pourrons pas réaliser par des délais raisonnables. Voilà donc l'une des préférences les plus courantes du monde sur ce site de rencontre.

Cela signifie que les présidents des six états membres sont de retour en force en france. D’ailleurs, c’est la présence de toutes les femmes qui est réellement un moyen efficace pour rencontrer la population les meilleurs site de rencontre payant happily pour lancer les débatiques, parce qu’on ne peut plus la faire. Avec les chats du chat (dont le chat se définit comme une tête)

आशा है आप सब इसे पसंद करेंगे |

” सोहल “

प्रकृति का वरदान है सोहल, मेरे लिए जहान है सोहल।

इसकी शान निराली है,
बसी जहाँ माँ काली है।
चारों ओर हिरयाली है,
तभी यहाँ खुशहाली है।

बगल में इसके षण्ढीरी नाला,
सदियों से जिसने हमको पाला।
चरणों में इसके चंद्रभागा,
बहता हुआ जो मन को भाता।

खेत यहाँ के बड़े प्लेन,
नाम है जिनका – पटटड़ और सेंण।
वन यहाँ के हरे भरे हैं,
जड़ी बूटियों से भरे पड़े हैं। 3 parasta abs-harjoitusta proviron 50 mg nämä ovat joitain tapoja pitää sinut motivoituneena olla soturi – kehonrakennus vinkkejä.

गुच्छी, जीरा, कुट और कौड़,
पाई जाती है हर ओर।
खिडी, थणगुल्ली, खूरी, किचरोड़,
मिलती यहाँ पर चारों ओर।

कोदरा, मक्की, दाल ओर धान,
जिन से हमारी है पहचान।
यही हमारी है भी शान,
यही हमारी है भी जान।

ख्वड़ल, धमण और कीमल नाई,
जिन्होंने इसकी शान बढ़ाई।
चैज, डिंगरोड़, पार, तुण्दराड़,
इन स्थानों से हमको है प्यार।

कुलदेवी यहाँ जयश्री मायी,
जिनकी कृपा हम सब पर छाई।
चौषठ देवी भी कहलाई,
तभी ख़ुशी घर घर में समाई।

हुनिशी से देखो, इसका नजारा,
मानो प्रकृति ने स्वर्ग यहीं विस्तारा है।
हमको इसकी आन है,मन में बड़ा सम्मान है,
इस पर हम कुर्बान हैं, यह हमारा स्वाभिमान है।

 

रवि कुमार चौहान (सोहल)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here