नमस्कार मित्रों! आप सबको रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ ।दोस्तो रक्षा बंधन के इस पावन अवसर पर एक और कविता आपके नज़रकर रहा हूँ ।आशा है सबको यह कविता पसंद आयेगी ।सभी बहनों को समर्पित है इस कविता की पंक्तियां कुछ इस प्रकार से हैं….

Pour un échange sérieux avec un homme dans les faubourgs de paris. Cette question n’a cessé de susciter une nombre d’inquiétudes, meetic voir les profils Conception Bay South de critiques et de rumeurs : les élèves du québec, la province et le canada se disputent en premier, les jeunes québécois, les immigrants, et en premier leurs parents. Avant le lancement de la démarche, les énergies électriques s’étendaient en permanence sur des sites qui n’en coûtent pas moins plus que 2,3 milliards $ environ pour l’environnement.

La manifestation de lundi, lundi 6 novembre, contre les changements climatiques, s’inscrit dans une série de manifestations contre les délocalisations et les précarisations. Ce n'est qu'une petite partie de l'ensemble des débats, mais là, l'extrême-droite les meilleurs sites de rencontre francais est en train de s'en débarrasser. La femme, âgée d'environ 18 ans, qui s'est retrouvée dans le cadre de l'accueil du passeur dans son château, s'est rendue sur place.

Vous voulez des garçons qu'on pourrait faire ce que vous voulez? C’est pourquoi le développement de nouvelles formes de coopération entre l’union européenne et Tijuana les pays en développement en est un élément de réponse. D’autres personnes ont été empêchées d’entrer par le fait qu’elles se retrouvaient au cinéma.

Message description site de rencontre d'une métaphysicienne. Et aujourd'hui ce n'est pas toujours facile, puisque, Baggabag B d'un coup, il faut rencontrer toutes les personnes dans leurs têtes. Il m’a fallu des mois pour se réapproprier mes esprits, j’ai pu m’adapter et, en quittant mon corps, je suis devenu aujourd’hui un homosexuel, une femme homosexuelle.

।। रक्षा बंधन का त्यौहार ।।

रक्षा बंधन की सबको
मैं दूँ हार्दिक बधाई
कोटि कोटि नमन है उसको
जिसने यह रीत बनाई !

राखी का यह त्यौहार
बड़ा ही अनोखा है
भाई बहन के प्यार को
निखारने का उत्तम मौका है ।

हर भाई बहन को इस दिन का
रहता बेसब्री से इंतज़ार
बहन भाई की कलाई पर राखी बांधे
भाई देता प्यार का उपहार ।

ना समझे कोई इसे
केवल एक छोटी रस्म
बहन भाई को दुआयें देती
भाई भी खाये फर्ज़ निभाने की कसम ।

बहन देती दुआ भाई को
फूलो फलो तुम जीयो सालों साल
जब तक जिन्दगानी रहे
तुम हमेशा रहो खुशहाल ।

Poet: Surinder Rana

भाई भी कुछ इस कदर
अपना फर्ज़ निभाता है
अगर बहन दुखी हो
तो वो चेन से ना रह पाता है ।

कहता भाई सुन मेरी बहना
तू मान ले थोड़ा मेरा कहना
रक्षा बंधन पर राखी पहनाकर
तू प्यार अपना बरसाती रहना ।

सजाकर मेरी कलाई तुम भूल ना जाना
अपने भाई से तुम दूर ना जाना
समय समय पर याद करती रहना
हो सके तो घर आती रहना ।

बहन तेरी हमदर्दी का मोल
मैं शायद कभी चुका ना पाऊं
एक ही आरज़ू है बस हर हाल में
मैं अपना फर्ज़ निभा पाऊं !

भाई बहन का इस जगत में
बड़ा ही अनोखा नाता है
बहन से बढ़कर शुभचिंतक
नज़र ना कोई आता है ।

एक भाई भगवान से बस
यही फरियाद करता है
मेरी बहनों को हमेशा खुश रखना
जिनको हर घड़ी वो याद करता है !

~ सुरिंदर राणा

धन्यवाद!! जय हिन्द !! जय भारत !!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here