Home Blog Page 3

Poem by Madhur Paddri : फूल वे जाने कहां हैं|

यह कविता (हाई स्कूल सोहल के) उन चार होनहार और मेधावी छात्रों के नाम लिखी गई थी जिन की 4अगस्त 2018 को एक दुखद घटना में तालाब में डूबने से मृत्यु हो गई थी...

Sharoth Dhar Massacre, Paddar

श्रावण मास की पूर्णिमा का पाडर मे बहुत बड़ा महत्व रहा है, इस पूर्णिमा के दौरान जहाँ पूरे देश मे रक्षाबंधन का पवित्र त्यौहार मनाया जाता है वहीँ पाडर मे भी इस दिन लोग...

Poem on Raksha Bandhan (रक्षा बंधन का त्यौहार) by Surinder Rana

नमस्कार मित्रों! आप सबको रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ ।दोस्तो रक्षा बंधन के इस पावन अवसर पर एक और कविता आपके नज़रकर रहा हूँ ।आशा है सबको यह कविता पसंद आयेगी ।सभी बहनों को...

Who is Fooling Paddries? (Latest Stories)

Lead Story We are humans and respect is our basic need and we love to do jobs in the society which earn us respect. Look around you and you will find spectrum of people boasting...

Paddri Geet (औंऊं हंडना अकेला) by Madhur Paddri

दोस्तो अतीत के पन्नों को पलटते हुए एक बार फिर मेरी नजरें एक पन्ने पर आकर टिक गई और मैं यादों में खो गया जब लगभग तीस बरस पहले सावन के महीने में हम...