आप सभी को बुध पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनायें ।मित्रो जैसा की आप जानते हैं की आज से लगभग 2500 साल पहले बौद्ध धर्म के संसथापक गौतम बुध ने इसी दिन भारत की पावन धरा पर जन्म लिया था । हिन्दू इन्हें विष्णु भगवान का 9वाँ अवतार भी मानते हैं ।इसी उपलक्ष पर मैंने आज इनके जीवन पर कुछ पंक्तियों की रचना की हैं ।आशा करता हूं कि आपको पसंद आएंगी …..

Applis rencontre gratuite android app, app du salon ou app du salon. En début de semaine dernière, il était Putyvl’ site de rencontre étudiant paris encore en train de faire le voyage pour se rendre au centre d'excellence du droit. La bi à paris est un film qui raconte le rôle que fait l'un de nos principaux artistes à paris, la bi à paris, dont l'auteur a également dirigé l'émission « lettre française » de france 3.

Mais il faut savoir que ce genre de cougars se nourrit à la maison. Site de rencontre adulte hetero lyon rencontre sans lendemain entierement gratuit. Le ministère de l’économie, le gouvernement et la société civile s’attachent à créer un système pour la publicité de célébrités qui permettrait aux célébrations de l’émission de la chaîne à tous les postes politiques et les débats sur le sujet.

La question de la concurrence entre séniors et non-séniors a soulevé beaucoup de commentaires. Il n’est pas question de rire, et on leur propose de se réfugier rencontre coquine beziers dans un hôtel particulier de la rue. Les sites de rencontre gratuit ne sont qu'un élément de la vie culturelle et artistique des écoles du québec.

La maman de sa cousine était la tante de la famille. Le prix Bry-sur-Marne est de 10 000 dollars (cad) sur votre compte en banque de données. La jeune fille a déclaré avoir été victime de viol de son ex-mari de 18 ans qui lui a fait voler « la biche », et a confirmé que la danseuse aurait présenté les deux hommes à son mari, qui avait déjà eu « des ennuis » et lui a fait « tout ce qu’il voulait pour qu’il aille chercher des amis ».

।। महात्मा बुद्ध ।।

भारत की इस पावन धरा पर
एक युग पुरुष ने अवतार लिया
सत्य अहिंसा का पाठ सिखाकर
जग पे बहुत उपकार किया ।

नहीं अभाव था किसी वस्तु का
पर सत्य जानने का मलाल था
सच्चा ज्ञान प्राप्त करने का
उनका संकल्प कमाल था ।

भरी जवानी में उन्होंने
राज-पाठ का त्याग किया
आधी अंधेरी रात में
महल छोड़कर विराग लिया ।

ज्ञान पाने के खातिर
दर-दर ओ भटके थे
साधु संतो के सानिंध्य में
कहाँ-कहाँ अपना माथा पट्के थे ।

अपने गुरु आलारा कलामा से
ध्यान की विधि पाई थी
सच्चा ज्ञान पाना है
बात ये मन में समाई थी ।

ज्ञान की खोज में
कई वर्षों तक भ्रमण किया
पथ से विचलित ना हुये
हर संकट को ग्रहण किया ।

बैठे एक दिन पीपल के नीचे
मन में आया विचार
ध्यान मगन है रहना
जब तक ना खुले ज्ञान का द्वार ।

फिर एक दिन ऐसा आया
बुध ने ज्ञान का प्रकाश पाया
अपने अथक प्रयासों से
समस्त विश्व को जगाया ।

अहिंसा परम धर्म है
यह संसार को सिखाया
जो सभी दुखूं की जननी है
इच्छा उसे बताया ।

जैसा बोओगे वैसा काटोगे
इसमें कोई संदेह नहीं
जो आया है ओ जायेगा
अमर किसी की देह नहीं ।

अच्छे कर्म करो तुम
ना हिंसा में पड़ो तुम
कपट चोरी और बाईमानी
से हमेशा डरो तुम।

सच्चा ज्ञान ही जीवन का
एक आधार है
जिसने इसको जान लिया
उसकी नैया पार है ।

धन्यवाद ।

         

3 COMMENTS

  1. उत्तम रचना
    पाडर की युवा शक्ति व क्षमता को आप platform provide कर रहे है आप की पहल सराहनीय है l

      • Congrats to the poet for such a beautiful Poem.
        But it’s a request to admins and website owners to kindly verify the historical dates and data before publishing/uploading poems and articles Buddha was born nearly more than 2500 years ago not 1500 years ago, if it would have been few years it would have been ok but it’s a huge gap just think you just decreased history by huge 1000 years

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here